expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

सोमवार, 3 फ़रवरी 2014

झाँकी हिंदुस्तान की : प्राक्कथन

भारत दर्शन : प्राक्कथन 

|| झाँकी हिंदुस्तान की :- इस श्रंखला की पहली पाती ||

ब्लॉग के आलेखों को पढने की सुविधा हेतु उनको विषयवार टेब्स ( Tabs) में व्यवस्थित किया गया है प्रकाशित  सभी चिट्ठों को आप  'मुखपृष्ठ : शुभ स्वागतमके अतिरिक्त उनके  टेब्स ( Tabs) पर भी क्लिक करके विषयवार पढ़ सकते हैं । उदाहरण : यथा आप इस लेख और इस विषय ( यात्रा ) पर आधारित लेखों को " पथ की पहचान" टेब्स ( Tabs)  में भी  पढ़ सकते हैं धन्यवाद ) 

तुम्हारे आभार की लिपि में प्रकाशित
हर डगर के प्रश्न हैं मेरे लिए पठनीय
कौन-सा पथ कठिन है...?
मुझको बताओ
मैं चलूँगा।

( दुष्यंत कुमार )





     "यात्रा" यह शब्द ही अपने आप में जीवन का पूरा व्याकरण है । जन्म से लेकर मृत्यु भी एक सफर है और इस एक सफर में ना जाने कितने सफर हम तय करते हैं । "यात्रा" नाम ही रोमाँच से भर देता है ।  कुछ मनचाहे और कुछ अनचाहे, कुछ सुखांत और कुछ दुखांत तज़ुर्बे  , अनोखी अनुभूतियाँ , किसी स्थान का अपने दृष्टिकोण से अन्वेषण , आँखों से होकर गुजरता एक एक नज़ारा अपने आप में किताब जैसा होता है ।   सहयात्री और रास्तों में मिलने वाले लोग आपको कई बार किसी मुद्दे को एक बिलकुल नये आयाम से सोचने पर विवश कर देते हैं । यात्रा के दौरान रोज़ाना के मामलात से ही निकल के एक बिलकुल नई शै आपके सामने आ जाती है , और आप विस्मृत से हो जाते हैं  । इसके अनुभव सुनाने को , बताने को , लिखने को मन आकुल हो उठता है । और कुछ जगहों पर तो आप फिर से भी जाना चाहते हैं , बार-बार जाना चाहते हैं । 

     वर्ष 2009 के अक्टूबर के दूसरे हफ्ते के दौरान रेल पर्यटन की इस वेबसाइट पर निगाह पड़ी, और भारत दर्शन पर्यटक रेलगाड़ी का एक यात्रा कार्यक्रम  मन को भा गया । घर-परिवार और मित्रों में चर्चा की , लेकिन कुछ ने यात्रा की अवधि जो लगभग 2 सप्ताह थी , तो कुछ ने अन्यान्य कारणों से साथ चलने में असमर्थता प्रकट की । फिर भी हम 4  जने चलने को तैयार हो गये लेकिन उनमें से भी दो बाद में चलने से इंकार करने लगे  तो बचे दो,  एक तो मैं और दूसरा मेरा छोटा भाई अंकित, हम दोनों ने अपने टिकिट आरक्षित करवा लिये जिनका शुल्क रु. 7200. 00  / प्रतिव्यक्ति ( भोजन व दर्शनीय स्थानों के भ्रमण सहित ) के लगभग था । यात्रा के लिये एक मात्र प्रावधान था द्वितीय श्रेणी शयनयान का, यात्रा शुरू होने में अभी लगभग  20 दिन शेष थे और कुछ कारणवश हम लोगों को भी अपनी यात्रा रद्द होती प्रतीत होने लगी लेकिन धीरे-धीरे सब व्यवस्थित हो गया और हमारा जाना सुनिश्चित हो गया ।

     अब इस यात्रा की रूप-रेखा, योजना कुछ इस तरह की थी :-:  यह एक रेल-यात्रा थी जिसकी शुरुआत  हबीबगंज रेलवे स्टेशन ( भोपाल, मध्यप्रदेश ) से होना थी,  और यहाँ से यह गुजरात, राजस्थान, उ.प्र., पंजाब और जम्मू के पर्यटक स्थानों पर जाना थी ।  इसके करीब दो दिन पहले हमें एक फोन आया करने वाले सज्जन थे राहुल उन्होंने हमें संक्षिप्त रूप से बताया कि यात्रा किस प्रकार होगी, आपको क्या क्या सामान साथ ले के आना चाहिये , एक बात जो उन्होंने बेबाक हो के कही "यात्रा में आप किसी लक्ज़री की आशा न रखिये ।" ये राहुल जी भी यात्रा में हमारे साथ ही रहे ।  भ्रमण की योजना कुछ इस प्रकार समायोजित की गई थी कि एक स्थान से दूसरे स्थान का सफर रातों-रात और दिन में वहाँ के दर्शनीय स्थानों की सैर । यानि घूम-फिर के आओ और रेलगाड़ी में ही पसर जाओ , हाँ कुछ स्थानों पर जरुर रात्रि विश्राम की व्यवस्था धर्मशाला में की गई थी । अब हम जैसे-जैसे आगे बढ़ते जायेंगे वैसे-वैसे आप इस यात्रा के मजेदार पहलुओं से परिचित होते जायेंगे, यात्रा 18 नवम्बर 2009 से शुरू होना थी ।



     ठंड की शुरुआत हो चुकी थी तो हमने ( मैं और अंकित ),  सामान्य कपड़ो के साथ-साथ गर्म कपड़े भी रख लिये , और हाँ , ये भी कहा गया था कि ट्रेन में आपको बिछौना उपलब्ध नहीं करवाया जायेगा तो हमने दो चादरें, दो हल्के कम्बल और दो हवा से फुलाये जाने वाले तकिये भी रख लिये, बहुत मना करने पर भी माँ ने सूखा, सफरी नाश्ता भी रख दिया जो तादाद में इतना था कि एक थैला उसी से भर गया । पिताजी भी चिकित्सक और मैं भी तो पिताजी  ने  एक अच्छा-खासा फर्स्ट-एड बॉक्स भी तैयार कर दिया जो इस यात्रा में कहाँ-कहाँ व कैसे-कैसे काम आया ये आपको आगे मालूम होता जायेगा । थोड़े में कहें तो यात्रा की सभी जरूरी तैयारियां पूरी कर लीं । और सबकी सारी बहुत-बहुत जरूरी हिदायतों को सुनकर और उनके पालन का आश्वासन देकर हमने अपने सफर की शुरुआत की । 

     रात की एक बस से हम भोपाल के लिए रवाना हुये, इस बस ने हमें रात के लगभग 2 बजे भोपाल पहुंचाया , मैं भोपाल में ही पढ़ा हूँ इसलिये भोपाल मेरा जाना-माना शहर है । इतनी देर रात किसी मित्र या रिश्तेदार को परेशान करना मुझे ठीक नहीं लगा , हमारी ट्रेन रवाना होने का समय भी हमें प्रात: 8 बजे का बताया गया था   तो हम नादरा ( पुराना ) बस स्टैंड से ऑटो करके  हबीबगंज रेलवे स्टेशन आ गये , और यहीं पर रेल विश्रामगृह की डोरमेट्री में रात्रि विश्राम किया । 

     चलते-चलते दो बातें आपको बता दें पहली तो यह कि इस यात्रा-वृतांत श्रंखला का शीर्षक  "झांकी हिंदुस्तान की  " कवि पं. प्रदीप ( ए मेरे वतन के लोगो के गीतकार ) के प्रसिद्ध गीत "आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान की" से लिया गया है । यह शीर्षक चुनने का कारण यह है कि इस गीत में वर्णित बहुत से स्थानों का मैंने अपनी इस यात्रा के दौरान भ्रमण किया । उपशीर्षक उस स्थान या प्रान्त विशेष के लिए होगा जो उस पाती में बयाँ किया जायेगा और दूसरी यह कि पश्चिम मध्य रेलवे का हबीबगंज स्टेशन भारत का पहला ISO 9001 प्रमाणित स्टेशन है ।

तब तक के लिये अनुमति दीजिये , कृपया मेरे प्रणाम स्वीकार करें ............ 

               


6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और सधी शुरुआत जिससे ऐसा लग रहा है मानो ये यात्रा आपने तय ना की हो वरन हम तय करने वाले है। आखिर हम भी तो मुसाफिर ही है जो जीवन रूपी सफ़र में आपसे मिले है।तो एक उम्मीद तो बनती ही है की न सिर्फ़ इस यात्रा वृतांत वरण वास्तविक जीवन में भी आपसे कुछ सीखने का मौका मिले।
    एक बार फिर से धन्यवाद इस सफ़र की शुरुआत करने के लिए जो की जहाँ रोचक होने की उम्मीद है तो हमारे ज्ञानवर्धन में सहायक होने की भी। हम बस दिल थाम के प्रतीक्षा कर रहे है अगले प्रकाशन की।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरे निजस्वरूप प्रिय बन्धु स्वप्निल जी , लेख की रचना आपको अच्छी लगी मेरा हार्दिक धन्यवाद स्वीकार करें " हम भी तो मुसाफिर ही है जो जीवन रूपी सफ़र में आपसे मिले है " आपकी इस बात से सौ फीसदी सहमत हूँ | यह जीवन एक सतत यात्रा है और सीखने-सिखाने की प्रक्रिया भी लगातार ही चलती रहती है | हर सफर कुछ न कुछ सीख अवश्य दे जाता है | बस जुड़े रहें अगली किश्तें जल्द ही प्रकाशित करूंगा |

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. धन्यवाद !! हर्षवर्धन जी , मैंने कवि प्रदीप पर केन्द्रित आपकी पाती को फेसबुक पर साझा किया है | साधुवाद

      हटाएं